1920 इविल रिटर्नस – खुद को तेरे पास

खुद को तेरे पास | 1920 इविल रिटर्नस | महालक्षमी अय्यर | आफ़ताब शिवदासनी, तिया बाजपयी | हिंदी विडियो गाना | हिंदी गाना | 1920 इविल रिटर्नस के गाने | खुद को तेरे पास गाने के बोल

गाना:- खुद को तेरे पास

फिल्म:- 1920 इविल रिटर्नस

कलाकार:- आफ़ताब शिवदासनी, तिया बाजपयी

गायक:- महालक्षमी अय्यर

संगीत:- चिरतन भट्ट

गीतकार:- शकील आज़मी

म्यूज़िक लेबल:- टी-सीरिज

गाने के बोल:-

तुम भी तनहा थे
हम भी तनहा थे
मिलके रोने लगे

तुम भी तनहा थे
हम भी तनहा थे
मिलके रोने लगे
एक जैसे थे दोनों के गम
दवा होने लगे

तुझमे मुस्कुराते हैं
तुझमे गुनगुनाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं
तेरे ही ख्यालों में
डूबे डूबे जाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

थोड़े भरे हैं हम
थोड़े से खाली हैं
तुम भी हो उलझे से
हम भी सवाली हैं

कुछ तुम भी कोरे हो
कुछ हम भी सारे हैं
एक आसमान पर हम
दो चाँद आधे हैं
कम है ज़मीन भी थोड़ी
कम आस्मां है
लगता अधूरा
तुम बिन हर जहां है

अपनी हर कमी.. में हम
अब तुझे ही पाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

जितनी भी वीरानी है
तुझसे ही सजाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

दो राज़ मिलते हैं
हम राज़ बनते हैं
सन्नाटे ऐसे ही..
आवाज़ बनते हैं

ख़ामोशी में तेरी
मेरी सदायें हैं
मेरी हथेली में
तेरी दुआएं हैं
एक साथ तेरा हो तो
सौ मंज़िले हो..
तन्हाई तेरी
मेरी महफिले हों

हम तेरी निगाहों से
खुद में झिलमिलाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं
तुझसे अपनी रातों को
सुबह हम बनाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं.


Follow @aBoxOffice